परमाणु हमला होने की स्थिति में क्या करें


पिछली पोस्ट में आपने पढ़ा कि परमाणु हमले पर कैसे नजर रखी जाए और कैसे बचाव के उपाय किए जायें. अब यदि आपके शहर पर परमाणु हमला हो जाय तो फिर जानिए आपको क्या करना चाहिए। परमाणु हमले की थोड़ी सी भनक लगते ही अपनी जान बचाने का संघर्ष शुरु कीजिए:


परमाणु तबाही के तीन भाग है,


1)शुरुवाती धमाका

2)फॉल आऊट

3)विनाशकारी तूफान



अगर परमाणु बम आपकि लोकेशन के ढेड मील के अंदर गिराया गया है, तो फौरन ईश्वर को याद कर लें और बैठे है तो खड़े हो जाए, अगले तीन सेकंड के अंदर अंदर आपका अस्तित्व भाप बनकर उड जाएगा, अगर परमाणु हमले से आपकी लोकेशन डेढ मील से दूर है तो आप बच सकते है, पहला धमाका सुनाई देने के बाद आपके पास ज़्यादा से ज़्यादा 5 सेकंड है, धमाके कि विरुद्ध दिशा मे किसी भी ठोस चीज़, दिवार या गहेरी जगह पोहंचें, ज़मीन पर उलटा लेट जाएं, अपने दोनो हाथ सिरपर रखते हुवे कानों को ढांपले और टांगें क्राॅस करलें, इसी के चलते आपको एक और ज़ोरदार धमाका सुनाई देगा जो पहेले धमाके से 100 गुनाह ज़्यादा ताकतवर होगा , और इस्से ज़मीन मे भुकंप जैसी स्थिति या ज़ोरदार कंपन पैदा होगा,

बधाई हो!

आप शुरुवाती धमाके से बच निकले,धमाका सुनाई देने के 2 से 3 सेकंड मे उठ खड़े हो और अपनी पनाह गाह (तलघर) की तरफ भागे,


फॉल आऊट

पहेले धमाके मे सैकड़ों इमारतें धुवां बनके उड़ जाएंगी जिनका मलब बारिश के समान बरसेगा, और साथ ही विस्फोट से भरे अल्फा पार्टिकल्स की बारिश भी शुरु हो जाएगी, धमाके कि तरफ हरगिज़ मुड के ना देखें, और फॉल आऊट मे गिरती चीज़ों से बचने कि कोशिश करें, अगर आप सही सलामत पनाह गाह तलघर बनकर तक पहुंच गयें तो बधाई हो!

आप फॉल आऊट से बच निकले, पनाह गाह के अंदर घुसते ही एक पल कि देर किये बिना अपने सारे कपडे़ उतार दें, क्योंकि फाल आऊट के दौरान यह बड़ी संख्या मे अल्फा पार्टीकल्स को चुस चुका होगा,

इसके बाद यदि आप ज़ख्मी है तो First Aid Kit (प्रथम उपचार) का उपयोग करें, और सही सलामत है तो तुंरत स्नान करें, ताकि फाल आऊट के बचे-खुचे असर से खुद को यथाशीघ्र बचा सके, अब ज़मीन पर हर तरफ विनाशकारी तूफान है, और आपको तलघर मे कई दिन रहना है,

याद रखें

1) कम से कम खाएं

2) जितना हो सके सो कर समय गुज़रे,

3) रेडियो सुनते रहे और बाहर कि स्तिथी से परिचित रहें,

4) अपनी हिम्मत कभी ना हारे,

5) अगले चंद दिन मे आप रेडियो एक्टोस्किंग्स के शिकार हो सकते है, जिसमे आपको तेज़ बुखार, घुटन , उल्टियां होसकती है, अब अपने पास मौजूद दवाइयों का उपयोग करें,

परमाणु धमाके के ज़्यादा से ज़्यादा 5 दिनों के बाद मदद कार्य और फौजी दस्ते आपके इलाके मे पहुंच जाएंगे।

रेडियो सुनते रहे, जब आपको पुर्ण विश्वास होजाए कि आपके इलाके मे मदद कार्य शुरु हो चुका है, तो बाहर निकल कर नज़दीकी मदतकर्ता दस्ते से तुरन्त संपर्क करें, ताकि आपको परमाणु विस्फोट कि चपेट मे आए हुए इलाके से फौरन बाहर निकाला जा सके।

यदि कोई मदतकर्ता दल आप तक ना पहुंच सकें, तो कम से कम 20 दिन बाद अपने तलघर से बाहर निकलें, अब तक विनाशकारी तूफान थम चुका होगा।

ज़िन्दगी की तरफ सफर

पनाह गाह से निकलते ही मुमकिन है कि आपको सबसे पहले अहसास यह होगा कि लाखों मे से सिर्फ आप ही ज़िन्दा बचे है, अब जिस भी प्रकार हो इलाका छोड दें और रेडियोएक्टिवीटी खत्म होने तक उस इलाके में वापस न आयें।



Comments