जाली नोटों के सबसे बड़े कारोबारी जावेद खनानी ने की सुसाइड

पाकिस्तान में छपने वाले भारतीय जाली नोटों की सप्लाई करने वाले सरगना जावेद खनानी ने कराची के साइना टावर से कूद के आत्महत्या कर लिया।






Javed Khanani कराची में Khanani & Kalia International नामक मुद्रा बदलने के व्यवसाय की आड़ में नकली भारतीय मुद्रा को भारत में भेजने का काम करता था। वो दाऊद इब्राहम, ISI, लश्कर और हक्कानी समूह के लिए धन जुटाता था और हवाला के जरिये नकली भारतीय नोट भारत में भेजता था। 8 नवम्बर को ISI के पास लगभग भारतीय अर्थ व्यवस्था के 150% की मुद्रा छापने का कच्चा माल उपलब्ध था जो कि 8 नवम्बर रात से कचरे का ढेर बन गया था। जावेद खनानी ने दाऊद के नेटवर्क के जरिये 40000 करोड़ की नकली मुद्रा भारत में डाल चुका था। आत्महत्या करने के समय उसके पास 20000 करोड़ की नकली भारतीय मुद्रा मौजूद थी ......


मुम्बई में एक ही परिवार के द्वारा 2 लाख करोड़ रुपये दिखाने का मामला भी इस नेटवर्क से जुड़े होने के शक में ही भारतीय आयकर अधिकारियों ने इसको VDS नहीं माना और सब जप्त कर लिया। छानबीन की जा रही है .... जावेद खनानी के मौत को पाकिस्तान की एजेंसियों ने छिपा रखा है और इसमें कोई पड़ताल नहीं कर रह क्योंकि इस नेटवर्क के बाहर आते ही पाकिस्तान का अंतरराष्ट्रीय शाख पर एक और तगड़ा बट्टा लगता। कराची के Additional IG मुश्ताक़ मेहेर ने बताया कि इमारत से कूदने के बाद पहले वो बिजली के तारों में फंस गया और फिर नींचे गिर के मर गया। ......
मोदी ने जनता और देश को रस्ते लगने से बचाने के लिए जनता से लाइन लगवाई है ... थोड़ा धैर्य बनाए रखें ... अभी 30 दिसंबर दूर हैं .. अभी केंचुवे मरे हैं ... ये नोटबंदी अभी बहुत बड़े बड़े अजगरों का अंत करने वाली है ...




नोट: यह पोस्ट Ranjay Tripathi की फेसबुक वॉल से साभार लिया गया है. इस पोस्ट के सभी अधिकार इसके मूल लेखक Ranjay Tripathi के अधीन हैं तथा ज्ञानवाणी ने केवल इसे साभार प्रकाशित किया है। इसके पुनः प्रकाशन या कॉपी पेस्ट के लिए मूल लेखक की पूर्व अनुमति आवश्यक है

Comments